Maharashtra Mumbai

2500 के लिए 1700 पैकेट बिरयानी बनाई भूखे-प्यासे यात्रियों ने भोजन-पानी लूटा

Written by SM Bureau

2500 के लिए 1700 पैकेट बिरयानी बनाई भूखे-प्यासे यात्रियों ने भोजन-पानी लूटा
टाटानगर स्टेशन पर मुंबई-हावड़ा मेल के यात्रियों ने सोमवार को जमकर हंगामा मचाया। यात्रियों ने रेल मंत्री पीयूष गोयल मुर्दाबाद के नारे लगाए।

छत्रपति शिवाजी टर्मिनल मुंबई से कोलकाता जा रही मुंबई-हावड़ा मेल शनिवार-रविवार रात महाराष्ट्र के नासिक से पहले कसारा और इगदपुर के बीच दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। पेंट्रीकार समेत छह कोच बेपटरी हो गई थी। हालांकि इस हादसे में किसी यात्री को गंभीर चोट नहीं लगी है। ट्रेन 12 घंटे लेट हो गई है।

पेंट्रीकार हटा दिए जाने के कारण रेलवे बोर्ड ने इगदपुर, नासिक, नागपुर व टाटानगर स्टेशन में यात्रियों के लिए नि:शुल्क भोजन और नाश्ते का इंतजाम करने का आदेश दिया था। टाटानगर रेल प्रशासन ने सुबह 10 बजे जन आहार को 1700 यात्रियों के लिए भोजन तैयार करने की जिम्मेदारी दी।

जबकि ट्रेन में 2500 से ज्यादा यात्री सफर कर रहे थे। जन आहार फूड स्टॉल ने रेल प्रशासन के आदेशानुसार वेज बिरयानी का पैकेट तैयार किया। मुंबई-हावड़ा ट्रेन दोपहर 2.05 बजे टाटानगर पहुंची। ट्रेन के आगे के कोच से भोजन का पैकेट बांटना शुरू किया गया। एस-3 तक आने के बाद पैकेट समाप्त हो गया।

इसके बाद भूखे-प्यासे यात्री प्लेटफॉर्म पर हंगामा मचाने लगे। यात्री ट्रेन को जल्द से जल्द रवाना करने की मांग कर रहे थे। रेल अधिकारी दुबक गए। आरपीएफ के एएसआई और रेलवे सिविल डिफेंस के मेंबर्स के साथ यात्री उलझ गए। बेकाबू भीड़ मारपीट पर उतारु हो गई थी। ट्रेन के रवाना होते ही रेल प्रशासन ने राहत की सांस ली।

रेल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इगदपुर में यात्रियों को पाव व चाय नाश्ता मिला। नासिक में वेज बिरयानी और नागपुर में भोजन का पैकेट दिया गया। प्लेटफाॅर्म नंबर पांच पर मुंबई-हावड़ा मेल के यात्रियों को बिरयानी का पैकेट बांटा जा रहा था। इसी दरम्यान प्लेटफॉर्म नंबर 4 पर छह घंटे विलंब से चल रही मुंबई-हावड़ा गीतांजलि एक्सप्रेस दोपहर 2.20 बजे पहुंची।

वे भी भोजन का पैकेट लेने लगे। भोजन बांटने वाले कर्मचारी नहीं समझ पाए कि कौन यात्री किस ट्रेन के हैं। गीतांजलि 2.30 में खुली तो ट्रेन में सवार होने के लिए यात्री दौड़भाग करने लगे। तब मालूम चला कि खाना लेने वाले कुछ यात्री गीतांजलि एक्स. के भी थे।

रेल अधिकारी दुबके भीड़ मारपीट पर उतारू

टाटा स्टेशन पर मुंबई -हावड़ा मेल के यात्रियों का गुस्सा फूटा

भोजन के पैकेट के लिए मारामारी करते यात्री।

यात्रियों की सेवा के लिए उमड़ पड़ा टाटानगर

दुर्घटनाग्रस्त इस ट्रेन के यात्रियों की सेवा के लिए पूरा टाटानगर पहले से तैयार था। प्लेटफॉर्म में आते ही स्टेशन के स्टाफ, स्टॉल स्टॉफ, फूड प्लाजा, जन आहार, कमर्शियल, आईआरसीटीसी, सिविल डिफेंस, यहां तक की रेल अधिकारी ने सेवा की।