अरविंद केजरीवाल को थप्पड़ मारने वाले का नया वीडियो आया सामने, AAP समर्थक होने का दावा

35
0
Share:

नई दिल्ली:  आम आदमी पार्टी (AAP) के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को चुनाव प्रचार के दौरान थप्पड़ मारने वाले शख्स की पहचान को लेकर एक नई बात सामने आई है. अरविंद केजरीवाल को थप्पड़ मारने वाले सुरेश चौहान का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह आम आदमी पार्टी के कार्यक्रम में दिख रहा है. अरविंद केजरीवाल को थप्पड़ मारने वाले सुरेश चौहान का जो वीडियो सामने आया है, उससे पता चलता है कि वह केजरीवाल की रैलियों और रोड शो में पहले भी जाता रहा है. बता दें कि इससे पहले आम आदमी पार्टी और खुद अरविंद केजरीवाल ने मोदी भक्त बोलकर से बीजेपी का आदमी बताया था. हालांकि, पुलिस ने सुरेश को आम आदमी पार्टी का कार्यकर्ता बताया था.

अरविंद केजरीवाल ने थप्पड़ मारे जाने की घटना की निंदा करते हुए उन पर बार बार होने वाले हमलों के पीछे बड़ी साजिश होने की आशंका जताई थी. और इस घटना के पीछे भाजपा को जिम्मेदार ठहराया था. हालांकि, दिल्ली पुलिस ने हमलवार को आप कार्यकर्ता बताया था, मगर उस वक्त आम आदमी पार्टी ने कहा था कि दिल्ली पुलिस (Delhi Police) झूठ बोल रही है, उसकी बीवी उसे मोदी भक्त बता रही है. दिल्ली पुलिस ने बताया था कि प्रारंभिक पूछताछ से पता चला है कि थप्पड़ मारने का आरोपी सुरेश नाम का यह युवक कबाड़ी का काम करता है और वह आप पार्टी का समर्थक है तथा इसकी रैलियों और बैठकों में बतौर आयोजक काम करता है

साथ ही पुलिस ने बताया था कि मामले में कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है क्योंकि उन्हें अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है. घटना के समय केजरीवाल नई दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से आप के उम्मीदवार बृजेश गोयल के प्रचार अभियान के दौरान मोती नगर इलाके में आयोजित रोड शो में हिस्सा ले रहे थे. तभी लाल रंग की टीशर्ट पहने एक युवक ने केजरीवाल की जीप पर चढ़ कर उन्हें चांटा मार दिया. दिल्ली पुलिस के एपीआरओ अनिल मित्तल ने बताया कि डीसीपी स्तर की जांच के आदेश दे दिये गए हैं. पुलिस ने बताया कि हमलावर सुरेश के अनुसार वह पार्टी के नेताओं के व्यवहार से परेशान था और वह इस बात से नाराज था कि पार्टी ने ‘सशस्त्र सेनाओं पर अविश्वास’ जताया है.

आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने शनिवार को केजरीवाल पर हुये हमले के बाद कहा कि यह घटना मुख्यमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री की सुरक्षा मोदी सरकार के अधीन है लेकिन केजरीवाल का जीवन सबसे असुरक्षित है. बार-बार हमला और फिर पुलिस का रोना, क्या साज़िश है इसके पीछे? हिम्मत है तो सामने आकर वार करो दूसरों को हथियार बनाकर नहीं.’ सिंह ने केजरीवाल पर हुये हमले के पीछे साजिश की आशंका जताते हुये कहा, ‘केजरीवाल की सुरक्षा में बार बार चूक. क्या मोदी सरकार केजरीवाल पर किसी बड़े हमले का इंतज़ार कर रही है? या फिर कोई बड़ी साज़िश है?’

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा, ‘क्या मोदी और अमित शाह अब केजरीवाल की हत्या करवाना चाहते हैं? पांच साल सारी ताक़त लगाकर जिसका मनोबल नहीं तोड़ सके, चुनाव में नहीं हरा सके, अब उसे रास्ते से इस तरह हटाना चाहते हो, कायरो! ये केजरीवाल ही तुम्हारा काल है.’ इस बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इस घटना की निंदा करते हुये कहा कि राजनीति में हिंसा का कोई स्थान नहीं है. मनोज तिवारी ने यह वारदात के आप प्रायोजित होने की आशंका जताते हुये कहा कि चुनाव के समय ही केजरीवाल पर हमले क्यों होते हैं. गौरतलब है कि पिछले साल भी एक युवक ने केजरीवाल पर मिर्च पाउडर फेंकने की कोशिश की थी. इससे पहले भी उन पर दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान एक व्यक्ति ने जीप पर चढ़ कर चांटा मारा था. एक बार वह स्याही हमले के भी शिकार हो चुके हैं.

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने केजरीवाल पर हमले के पीछे भाजपा का हाथ होने की आशंका जताते हुये कहा कि चुनाव में हार के डर से बौखलाये विपक्षी दल इस तरह के हथकंडे अपना रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस ने ही इस आदमी को पहुंचवाया है. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली पुलिस ने आप से संबंधित एक व्यक्ति को शामिल करवाया है. यह बहुत शर्म की बात है क्योंकि तथ्य यह है कि हमलावर की पत्नी ने खुद कहा है कि उसका पति मोदी भक्त है और वह मोदी के खिलाफ कुछ सुनना पसंद नहीं करता.’

उन्होंने इस हमले को कायरता पूर्ण हरकत बताते हुये कहा कि विपक्ष द्वारा प्रायोजित इन हमलों से आप को दिल्ली में रोकना मुमकिन नहीं होगा. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिल्ली के अपने समकक्ष अरविंद केजरीवाल पर हमले की निंदा की और कहा कि विपक्षी नेताओं पर हमला संकेत देता है कि भाजपा लोकसभा चुनाव हार रही है और हताश हो गयी है. उनके अलावा आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला और पूर्व मंत्री शरद यादव, माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने घटना की निंदा की है.

Leave a reply