#BreakingNews : भाजपा नेता और रायगड जिला परिषद शिक्षण मंडल सदस्य दुष्कर्म में गिरफ्तार

69
0
Share:

उरण स्थित जिला परिषद के स्कूल की 4 बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने का हुआ खुलासा

नवी मुंबई :  एक तरफ भाजपा पूरे देश में “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” का अभियान चलाये हुए है तो दूसरी तरफ एक अत्यंत शर्मनाक घटना में एक भाजपा नेता तथा रायगड जिला परिषद शिक्षण मंडल सदस्य द्वारा चार नन्हीं बच्चियों के साथ डेढ़ महीने से दुष्कर्म करने का खुलासा हुआ है। यह घटना उरण स्थित कलदुसरे गाँव के रायगड जिला परिषद संचालित एक स्कूल की है। चार बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने वाले नारायण पाटिल को उरण पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। कोर्ट में प्रस्तुत किये जाने के बाद नारायण पाटिल को 19 अप्रैल तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। गिरफ्तार हुआ नारायण पाटिल करीब डेढ़ महीने से यह कृत्य करता आ रहा था। आखिरकार उसके पाप का घड़ा भर ही गया और एक 7 वर्षीय बच्ची द्वारा अपने परिवार को दी गई जानकारी के बाद परिजनों द्वारा उरण पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करा दी गई और इसके बाद तत्काल हरकत में आई पुलिस ने प्राथमिक जांच में हुई पुष्टि के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया।

नारायण पाटिल रायगड जिला परिषद शिक्षण मंडल के कलदुसरे गाँव स्थित जिला परिषद स्कूल में आता रहता था। इस दौरान वह स्कूल के कम्प्यूटर कक्ष के आसपास रुकता या मंडराता रहता था। स्कूल छूटने के बाद कुछ विद्यार्थी कम्प्यूटर रूम में रुक जाते थे। इसी दौरान नारायण पाटिल छोटी बच्चियों के बगल बैठ जाता था और उन्हें डराते हुए अश्लील हरकतें करता था। इसी दौरान उसने एक 7 वर्षीय बच्ची के साथ वही सब हरकत दोहराई। स्कूल से निकलने के बाद बेहद डरी हुई बच्ची अपने घर पहुंची और अपने माता-पिता को इसकी जानकारी दे दी। अपनी मासूम बेटी की बात सुनकर कुछ समय के लिए तो माता-पिता दोनों सन्न रह गए। इसके बाद वे सीधे उस स्कूल में गए और स्कूल प्रबंधन को इसकी जानकारी दिया तथा वहां से निकलकर उरण पुलिस स्टेशन गए तथा अपनी शिकायत दर्ज करा दिया।

उरण पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक एस. कुलकर्णी ने बताया कि नारायण पाटिल बीते करीब डेढ़ महीने से यह गन्दी हरकतें कर रहा था। बच्चियों की उम्र बहुत कम होने से उन्हें समझ में ही नहीं आता था इसलिए किसी की तरफ से शिकायत भी नहीं दर्ज हो सकी थी। आखिरकार चौथी बच्ची द्वारा दिखाई गई हिम्मत के बाद नारायण पाटिल की करतूत का पर्दाफ़ाश हो गया और वह सलाखों के पीछे पहुँच गया। पुलिस ने नारायण पाटिल को छेड़छाड़ (मोलेस्टेशन) और पोक्सो एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है। फिलहाल इस मामले की जांच जारी है और संभवतः नारायण पाटिल द्वारा की गई इसी तरह की कुछ और घटनाओं का खुलासा हो सकता है।

Leave a reply