भिवंडी में किडनैपरों की दहशत, 4 महीनों में अपहरण की 51 वारदातें

9
0
Share:

भिवंडी

शहर में दिनों-दिन बढ़ रही नाबालिगों के अपहरण की घटनाओं से लोगों में भय का वातावरण व्याप्त है। जनवरी से लेकर अप्रैल तक सिर्फ 4 महीने में भिवंडी पुलिस उपयुक्तालय में अपहरण की 51 घटनाएं दर्ज हुई हैं। इनमें सबसे अधिक लड़कियां हैं, जिनकी संख्या 29 है। हालांकि पुलिस ने 43 मामलों को पुलिस ने सुलझा लिया है, जबकि 8 अनसुलझे हैं।

मजदूर बहुल शहर भिवंडी में आए दिन हो रही नाबालिगों के अपहरण की घटनाओं से मजदूर परिवारों को काम पर जाने के बाद घर पर बच्चों की सुरक्षा की चिंता बनी रहती है। भिवंडी के पावर लूम एवं मोती कारखानों में मजदूर काम करने के लिए जाते हैं। पुरुषों के साथ काफी संख्या में महिलाएं भी काम पर जाती हैं, जिससे बच्चे घर पर अकेले हो जाते हैं।

जनवरी से अप्रैल तक भिवंडी पुलिस उपयुक्तालय के 6 पुलिस स्टेशनों में दर्ज अपहरण की 51 घटनाओं में सबसे अधिक 14 घटनाएं भिवंडी शहर पुलिस स्टेशन और सबसे कम 2 घटनाएं कोनगांव पुलिस स्टेशन में दर्ज हैं। शांतिनगर पुलिस स्टेशन में हुई अपहरण की 13 घटनाओं को पुलिस ने हल कर लिया है। भिवंडी शहर पुलिस स्टेशन में 14 घटनाओं में 8 लड़कियों और 6 लड़कों के अपहरण की घटनाएं दर्ज हुईं। इनमें से पुलिस ने 11 की तलाश कर लिया है।

सी तरह, भोईवाड़ा पुलिस स्टेशन में 3 घटनाओं में दो लड़कियां एवं एक लड़के के अपहरण के मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें पुलिस ने दो को तलाश कर लिया है। निजामपुर पुलिस स्टेशन में 11 घटनाओं में 5 लड़कियां और 6 लड़कों के अपहरण के मामले दर्ज किए गए हैं। पुलिस ने 10 बच्चों का पता लगा लिया है।

नारपोली पुलिस स्टेशन में 8 घटनाओं में 5 लड़कियों एवं तीन लड़कों के मामले दर्ज हुए हैं। पुलिस ने 6 घटनाओं को हल कर लिया है। शांतिनगर पुलिस स्टेशन में दर्ज 13 अपहरण की घटनाओं में 8 लड़कियों और 5 लड़कों का अपहरण हुआ था, जिनमें से सभी मामले हल हो गए। इसी तरह कोनगांव पुलिस स्टेशन में दर्ज 2 मामलों में 1 लड़की एवं 1 लड़के के अपहरण की शिकायत दर्ज की गई, जिसमें एक घटना हल हो गई है।

शादी या खाने का झांसा
पिछले कई महीनों से भिवंडी में नाबालिगों के अपहरण की घटनाएं काफी बढ़ी हैं। ज्यादातर मामलों में बच्चों को खाने का लालच दिया जाता है और नाबालिग लड़कियों को शादी का झांसा देकर उनका अपहरण कर लिया जाता है। पुलिस जिन 8 बच्चों का पता अभी तक नहीं लगा पाई है, उनमें 5 नाबालिग लड़कियां हैं। इसी तरह 2018 में 4 महीने में गायब 6 नाबालिग लड़कियों का भी अभी तक पता नहीं चल सका है।

Leave a reply