नवी मुंबई के ग्रामीणों द्वारा लोकसभा चुनाव बहिष्कार की धमकी,’प्रॉपर्टी कार्ड’ नही तो वोट नही।

49
0
Share:

नवी मुंबई 24 से अधिक गाँवों के ग्रामीणों ने अपनी जमीन के स्वामित्व वाले ‘प्रॉपर्टी कार्ड’ की मांग करते हुए लोकसभा चुनाव का पूरी तरह से बहिष्कार करने की धमकी दिया है। आज सोमवार को हुई एक बैठक में यह निर्णय लिया गया. नवी मुंबई में बेलापुर और ऐरोली दो विधानसभा क्षेत्र हैं। इनमें 24 से अधिक गाँव हैं। इन्हीं गाँव की जमीन का अधिग्रहण कर सिडको ने नवी मुंबई शहर बसाया है। इन गांवों के ग्रामीणों ने “आगरी-कोली यूथ फाउंडेशन” नाम से एक जुझारू संस्था बना रखी है। इस संस्था ने सिडको प्राधिकरण और राज्य सरकार सहित स्थानीय दिग्गज नेताओं पर आरोप लगाया है कि उन्हें 100 फीसदी भूमिहीन बनाने के बदले इन लोगों ने सिवाय वादों के उन्हें कभी कुछ नहीं दिया है।
मांग पर अड़े ग्रामीण


आगरी-कोली यूथ फाउंडेशन” संस्था के माध्यम से ग्रामीणों ने अपनी मांगों को तीन समूह में रखा है। ये ग्रामीण सिडको और राज्य सरकार के सामने अपनी मांग कई बार रख चुके हैं पर अभी तक उन्हें कुछ नहीं मिला है। इस विषय पर ग्रामीणों की 25 से अधिक ‘प्री-मीटिंग्स’ तथा 9 ग्राम सभाएं ली जा चुकी हैं। ये ग्रामीण सरकार और सिडको के विरुद्ध ‘महा-मोर्चा’ भी निकालने वाले थे पर लोकसभा चुनाव की आचारसंहिता के चलते उन्हें पुलिस विभाग से अनुमति नहीं मिल सकी। ग्रामीणों ने सिडको प्राधिकरण और राज्य सरकार पर उनकी घोर उपेक्षा करने का सीधा आरोप लगाया है। आगरी-कोली यूथ फाउंडेशन ने सभी ग्रामीणों से अपील किया है कि वे एकजुट हों और राजनीति से दूर रहते हुए उनका साथ दें।
ग्रामीणों की मांगें
1- गाँवों के उनके घरों को नियमित करना
2- घरों के निर्माण को नियमित करना और संरक्षित करना, तथा
3- नए (पुनर्निर्माण) निर्माण के लिए बढ़ाई गई अतिरिक्त एफएसआई सहित पुनर्विकास का विकल्प देना
1.60 लाख मतदाता
आगरी-कोली यूथ फाउंडेशन द्वारा किये गए दावे के अनुसार नवी मुंबई के दोनों विधानसभा क्षेत्रों में स्थित 24 से अधिक गाँवों में कुल करीब 1 लाख 60 हजार मतदाता हैं। यदि इनकी मांग नहीं मानी गई तो वे सभी मिलकर इस लोकसभा चुनाव में एक भी वोट नहीं डालेंगे। नवी मुंबई के बेलापुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा की मंदाताई म्हात्रे और ऐरोली विधानसभा क्षेत्र से राकांपा के संदीप नाईक विधायक हैं। इस तरह देखें तो यदि ये ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े रह गए तो ठाणे लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे शिवसेना के राजन विचारे और एनसीपी के आनंद परांजपे को खासा नुकसान हो सकता है।

Leave a reply